अगर ब्लॉग्गिंग के क्षेत्र में सफल होना है तो जानिए Blogging में Consistency कैसे बनायें?

ब्लॉग्गिंग का नाम सुनकर कुछ लोग बहुत आसान समझ लेते हैं। उन्हें लगता है एक वेबसाइट बना लो और और लिखते जाओ  बस सबकुछ हो जायेगा। लेकिन असलियत तो उन्हें तभी पता चलती है जब वे इस क्षेत्र में प्रवेश ले लेते हैं।

ऐसा सिर्फ ब्लॉग्गिंग में ही नहीं होता है। यह समस्या हर किसी क्षेत्र की है चाहे वह पढाई हो या कमाई करने का तरीका। हम लोग शार्ट कट ज्यादा चाहते हैं। लेकिन आज हर तरफ इतना कॉम्पिटिशन बढ़ गया है कि शार्ट कट किसी तरह काम नहीं करता।

ब्लॉग शुरू करने का सही तरीका

अगर आप सच में ब्लॉग्गिंग में आना चाहते हैं तो सबसे पहले आपको इसके बारे में थोड़ी बहुत जानकारी होना जरूरी है। ब्लॉग्गिंग के Pros तथा Cons को समझने के बाद ही इसमें शुरू कीजिये। अगर आपको थोड़ी भी जानकारी है तो पहले आप एक साइट बनाकर उसपे काम करने की कोशिश करें।

जब आपको लगे कि अब आप बढ़िया से काम कर सकते हैं बिना किसी चिंता के फिर आप एक अच्छी होस्टिंग और डोमेन लीजिये और ब्लॉग सेटअप करके काम करना शुरू कर दीजिये। अगर आप पहले ही बिना जाने समझे ब्लॉग्गिंग में पैसा लगा देंगे तो हो सकता है वह बेकार हो जाये।

Blogging में Consistency कैसे बनायें

अगर कोई भी ब्लॉगर ब्लॉग्गिंग में सफल हुआ है तो उसका एक चरण तो क्लियर है कि उसमे Consistency के साथ अपने ब्लॉग पर काम किया है। इसलिए ब्लॉग को Next Level पर ले जाने के लिए आपको डेली कुछ समय देना होगा। अगर आप डेली पोस्ट नहीं करना चाहते तो आपको हफ्ते में कितनी पोस्ट करनी है इसका व्यौरा तैयार करें।

और हर हफ्ते उतनी पोस्ट आपके साइट पर पब्लिश हो जनि चाहिए। कंसिस्टेंसी के साथ यह भी ध्यान रहे की आपके द्वारा दिया जाने वाला कॉन्टेंट वैल्युएबल होना चाहिए। इसलिए हफ्ते में 3 पोस्ट लिखें Consistency तथा Value maintain रखें।

ब्लॉग्गिंग में असफल होने का कारण

आप जब ब्लॉग्गिंग शुरू करेंगे तो बहुत लोग आपसे मिलेंगे जोकि असफल ब्लॉगर भी हो सकते हैं। उनके हिसाब से ब्लॉग्गिंग समय की बर्बादी ही होगी। उनकी असफलता का कारण मैं आपको बता दूँ। ऐसे लोग ब्लॉग्गिंग में कभी सफल नहीं हो सकते जो सिर्फ पैसा कमाने के लिए ब्लॉग स्टार्ट करते हैं।

पैसे कमाने के लिए ब्लॉग स्टार्ट करना गलत नहीं है लेकिन सिर्फ पैसे के लिए स्टार्ट करना गलत है। क्योंकि उस स्थिति में आप सिर्फ वही चीज़ें सोचेंगे जिससे आपको फायदा हो जबकि गूगल चाहता है कि आपकी साइट पर आने वाले Reader को फायदा हो। जब Visitors खुश होगा तो गूगल खुश होगा, और गूगल खुश होगा तो आपकी तो बल्ले बल्ले अपने आप हो जाएगी।

ब्लॉग्गिंग में असफलता का कारण एक और चीज़ बनती है वह है Category. जी हाँ कुछ लोग ब्लॉग्गिंग करने के लिए दूसरों की साइट देखते हैं उसी से मिलती जुलती साइट बना लेते हैं। ऐसे में उनका पैसा तो बेकार होता ही है वे ब्लॉग्गिंग करियर खराब हो जाता है।

इसलिए आप अपने रूचि के आधार पर केटेगरी चुने जिससे आपको भविष्य में कभी बोरियत न महसूस हो और न ही कंटेंट की गुणवत्ता में कमी आये। और जब टॉपिक आपके पसंद का होगा तो आपका उसपे मन लगेगा और अपने आप कंसिस्टेंसी बनती चली जाएगी। यह थे कुछ जरूरी बिंदु जो नए ब्लॉगर्स के लिए बहुत जरूरी हो सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Google Adsense का पैसा बैंक अकाउंट में आने से पहले क्या क्या दिक्कते आती हैं? विटामिन E की कमी से कैसे जा सकती है जान, लक्षण पहचाने?