नए लोगों को Blogging और Youtube में क्या चुनना चाहिए जानिए Blogging Vs Youtube Which is Better in Hindi

देश दुनिया में बहुत सी गलत फहमियां फैली हुई हैं। अगर आप किसी चीज़ की शुरुआत करने जा रहे हैं और आपके पडोसी ने जान लिया तो उसका सिर्फ एक ही काम होगा आपके काम को ख़राब करना। इसलिए आप कोई भी काम करें बड़ी ही शान्ति के साथ करें। वो कहावत है न कि मेहनत इतनी ख़ामोशी से करो कि आपकी कामयाबी शोर मचा दे।

नए लोगों Blogging और Youtube में क्या चुनना चाहिए

जितने भी नए लोग इस फील्ड में प्रवेश लेते हैं उनको यह कन्फूसिओं रहता है कि ब्लॉग्गिंग स्टार्ट किया जाये या यूट्यूब। ऐसा डाउट उत्पन्न होने का सबसे बड़ा कारण होता है लोगों का कहना कि अब तो यूट्यूब का जमाना है ब्लॉग कौन पढता है। मैं आपसे कहना चाहूंगा की ऐसे लोगों को RIP बोलकर आएगी बढिये।

दोस्तों आपको बताना चाहूंगा की ब्लॉग एक ऑथेन्टिक तरीका है किसी भी जानकारी को शेयर करने के लिए। हाँ आज कल विसुअली सब अधिक जानकारी पाना प्रेफर करते हैं। लेकिन आज भी Genuine Informations ब्लोग्स पर ही मिलती है। यहाँ पर आपको अपनी गलतियां सुधारने का मौका मिलता है।

Blogging के बारे में बताने का मेरा मकसद यह नहीं है कि Youtube अच्छा नहीं है। और जहाँ करोड़ों अरबों लोगों को जाना पसंद है उसे गलत कहने वाला मैं कोई नहीं होता हूँ। चाहे ब्लॉग्गिंग हो या यूट्यूब दोनों अच्छे प्लेफॉर्म हैं और दोनों में कड़ी मेहनत लगती है।

आपको अपने अंदर देखना है कि आपको क्या पसंद है। आप कमरे के सामने बेझिझक बोल सकते हैं। अगर फिर भी आप Youtube पसंद करते हैं तो आप Voice Over वीडियो बना सकते हैं। Voice Over करके भी आज के समय में लोग लाखों की कमाई कर रहे हैं।

Blogging Vs Youtube Which is Better in Hindi

अगर कुछ सालों पहले की बात करें तो बेझिझक कोई भी कह सकता था कि ब्लॉग्गिंग सबसे अच्छा है आप ब्लॉग्गिंग शुरू करो। लेकिन आज के समय में ऐसा कहना सही नहीं है। क्योंकि यह आपके इंटरेस्ट पर आधारित हो चुका है। अगर आपको लिखने में रूचि है तो आप ब्लॉग्गिंग कर सकते हैं लेकिन यदि आपको Video बनाने तथा वीडियो को एडिट करने में इंट्रेस्ट है तो आप यूट्यूब ज्वाइन कर सकते हैं।

ब्लॉग्गिंग करने के लिए इन्वेस्टमेंट की जरूरत होती है वही यूट्यूब में देखा जाये तो आपको बिना इन्वेस्टमेंट के काम करने का मौका मिलता है। जैसा की आपको पता होगा कि Youtube भी गूगल का ही प्रोडक्ट है और इसमें भी कमाई के लिए पहला Source Adsense ही होता है।

अगर ब्लॉग्गिंग और यूट्यूब के Revenue Share Model की बात करें तो यूट्यूब पर आपको 55% तथा ब्लॉग्गिंग में 68% Revenue शेयर होता है। यूट्यूब के मुकाबले ब्लॉग्गिंग का रेवेनु शेयर ज्यादा होता है। अगर रेवेनुए शेयर ज्यादा होता है तो जाहिर सी बात है कि कमाई भी ज्यादा होगी।

नोट- अगर आपका कॉन्टेंट अच्छा है तो आप कहीं भी सफल हो सकते हैं चाहे ब्लॉग्गिंग हो या यूट्यूब।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Google Adsense का पैसा बैंक अकाउंट में आने से पहले क्या क्या दिक्कते आती हैं? विटामिन E की कमी से कैसे जा सकती है जान, लक्षण पहचाने?